कविता

पहले एक घटना घटती है – बाह्रय जगत मे
फिर कुछ और घटता है – अन्त:करण में
क्रमशः घटना का दृश्य अनेकानेक आकार लेता है – मनःस्तिथि के अनुसार
अनुभूति जगती है और अंततः अभिव्यक्ति की व्याकुलता

बस यही प्रक्रिया है कविता कहने की… इस प्रक्रिया से प्रसफुटित कुछ कवितायें प्रस्तुत हैं

यहाँ क्लिक करें —->>>कविता कोष


कविता,         यह उनकी पुराणी आदत है,        
स्वागत है २०१७ : अलविदा २०१६ ,         अमरत्व वैसे किसी को नहीं प्राप्त,                   
नशा,             नासूर,                    
 शेरां वाली माता की जय,                     क्रोध,                    
स्मृतियाँ,                  स्तिथि,                            
विल वर्क फॉर फ़ूड,                                             सपना खरीदेगा,                      
बहुत समय हुआ अब कलयुग भोगते,                          चाँद बेबाकी से,                    
वो भी होगा यहाँ,                          एकलव्य का अंगूठा,              
चाहो तो गिरा दो चाहो तो अपना लो,                               परिभाषा,
चुनाव का मौसम आया,               कविता होती क्या है ?,                    
दिन,                      मंत्रीजी,
हराम की औलाद,