Poem XII: चुनाव का मौसम आया (लम्बी कविता : भाग एक )


अवतार मसीहा पैगम्बर कार्यकम के तहत

चौरासी लाख एक नंबर पैगम्बर

उन्नीस सौ चौरानवे नंबर अवतार

और

चार सौ एक नंबर मसीहा बनकर तैयार हो गया है

और इन्द्रसभा मे इन्हे प्रस्तुत किया गया है

 

नामकरण कार्यालय ने इनका नाम

अत्याचार उन्मूलन

Image

देशभक्ति भावना और

मित्रता प्रस्तावित किया है

इंद्र ने “ठीक है” कहकर अपने स्वकृति हस्ताक्षर किये हैं

 

धरती वासी विस्मित न हो

ऐसा चमत्कार तो आप कई बार देख चुके हैं

कार्यक्रम तैयार किये जाते हैं

और सरकार के स्वकृति हस्ताक्षर उनमे जान फूँक देते हैं

 

अब इन्हें धरती पर स्वछंद विचरण हेतु छोड़ा जायेगा

स्वछंद विचरण का काल कुछ इस तरह खींचा जायेगा

कि

आगामी चुनाव के आसपास यह विचरण अपने यौवन पर होगा

 

इन कार्यक्रमों की सफलता असफलता विष्णु के हस्ताक्षर पर निर्भर है

सो “चोर चोर मौसेरे भाई” तो आप जानते ही हैं

Image

सभी कार्यक्रम सफल रहे यह इश्तेहार चुनाव से ठीक पहले लगा दिया जायेगा

(to be continued) …….

Image

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s