सपना -4


आज का सपना :
मैं कुर्ग मे खड़ा हूँ और जोर जोर से बोल रहा हूँ, मेरा कॉफ़ी से पुराना रिश्ता है; कर्णाटक का मैं गोद लिया बेटा हूँ
तभी मैं अपने को जलदापारा के नेशनल पार्क मे पाता हूँ; गैंडों के बीच- मुझे लगता है मेरी खाल भी बहुत मोटी है – मैं फिर पुराना रिश्ता सोचने लगता हूँ
तभी एक दोस्त गंगा की डुबकी लेकर मुझे बुलाता है और जोर से कहता है गंगा से तो सबका रिश्ता है – युगपुरुष भी यहाँ गोद ले लिए गए है

मैं जोर से बोलने लगता हूँ, थेपला, ढोकला, परांठा, लट्टी चोखा से पुराना रिश्ता है … शायद पेट मे दर्द उठता है और मैं उठ जाता हूँ

(युगपुरुष ने आज ही स्वयं को यूपी का गोद लिया बच्चा बताया है )

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s