सपना २६


ख्यातिप्राप्त अर्थशास्त्री “अमित शाह” और विश्वविख्यात नेता “नरेन्द्र दामोदरदास मोदी” जी एक साथ एक ही मंच से अपने ऐतिहासिक फैसले – नोटेबंदी की उपलब्धियां जनता के बीच गिना रहे हैं – मैं अग्रिम पंक्ति में बैठा हूँ …. तभी एक विशालकाय आदमी जिसकी कमर टूट चुकी है अंधाधुन्द एक बड़ी बन्दूक चलाता हुआ मेरे पास से गुजरता है … आस पास का दृश्य बदल गया है – मोदी जी नहीं हैं – कश्मीर की वादियां हैं; “बम बम भोले” का उद्घोष है …. वो विशालकाय आदमी जिसकी कमर टूटी हुई है – अभी तक ७ आदमी खा चुका है – जोर जोर से चिल्लाता है – नोटेबंदी ने तमाम आतंकवाद, तामाम अराजकतावादी का कमर तोड़ डाला हाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहा….. उस अट्टहास मे नींद कहाँ आनी थी – टूट गयी ….. लेकिन कितने दोस्त हैं जिनकी नींद ही नहीं टूटती – उनका अलग राग है —- “मोदी मोदी मोदी – नोटेबंदी नोटेबंदी नोटेबंदी”

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s