कहानी २ : सब उलझा हुआ है : भाग १


कहानी : सब उलझा हुआ है : भाग १

(१)

ऑफिस में यह खबर आग की तरह फ़ै ल गयी – राजेश मल्लया को वोडाफोन  वालों ने अपने ऑफिस में बुलाया हैऔर एक ईमेल भी आयी हैकी वोडाफोन अपना धंधा  ‘कंपनी’ से उठा लेगा. पिछले  ५ सालों से कंपनी वोडाफोन का कॉल सेण्टर का धंधा चला रही थी; और कंपनी में काम करने वालों को हमेशा इस बात का गर्व था की बाकि चाहे कुछ हो, वोडाफोन ने कभी कंपनी की ईमानदारी पर कोई सवाल नहीं उठाया. ‘कंपनी’ की ही तरह और भी कुछ  कंपनियां थी जो कॉल सेण्टर का काम किया करती थी और वहां चलने वाले गोरखधंधे की ख़बरें अफवाहों की सरूत ‘कंपनी’ पहुंचा भी करती थीं…. नॉएडा की एक कंपनी के कॉल सेण्टर मे कस्टमर के क्रेडिट कार्ड पर फ्रॉड हो गया; लाखों की जालसाज़ी के चलते कॉल सेण्टर मालिक गिरफ्तार हो गया. गुड़गावं का इंटरनेशनल कॉल सेण्टर अमरीकियों  के फ़ोन नंबर अवैध रूप से जाली कंपनियों को बेचा करता था; अमरीकी कंपनी ने धंधा वापस ले लिया ……..इन सब ख़बरों की आदत थी सबको, और यह यकीन भी की ‘कंपनी’ बाकि कंपनियों से अलग है

अभी कुछ महीने पहले ‘कंपनी’ में एक नया मैनेजर आया था. यह जो राजेश मल्लया को आज तलब किया गया है सब नए मैनेजर की बदौलत हो रहा है – ऐसी अफवाह सबुह से ही दबी जबान में चल रही थी.

आरती ने हिम्मत से काम लिया, अपने केबिन से निकलकर  तेज क़दमों से कांफ्रें स रूम मे दाखिल हुई. बाकि मैनेजर कांफ्रें स रूम मे पहले से ही थे. “राजेश मल्लया सर को तलब किया गया हैऔर ईमेल भी आयी है की धंधा वापस जा सकता है” – यह बात सनु कर सभी घबरा गए “लेकिन  आखिर  हुआ क्या है? कहीं वोडाफोन को ३० दिसंबर वाली बात पता तो नहीं चल गयी? साला करे कोई और भरे कोई.” किसी ने फुसफुसाया

(२)

आरती अपने सभी मैनेजर के साथ मीटिंग में है, यह खबर ह्यमून रिसोर्स (मानव संसाधन) हेड कालरा तक पहुंची. राजेश मल्लया को वोडाफोनने तलब किया है यह वो पहले से ही जनता था; “इस बार आरती और उसके डिपार्टमेंट का मजा निकलेगा. जरूर नए मैनेजर के साथ मिलकर कुछ किया होगा. वार्ना ऐन ३० दिसम्बर को वो भी छुट्टी पर, नया मैनेजर भी छुट्टी पर…… सब सांठ गाँठ कर रखी होगी. अगर कहीं नौकरी से हाथ धोना पड़ जाए तो कोई बड़ी बात नहीं” कालरा को वैसे भी अपने जूनियर्स के साथ महफ़िल लगाने का चस्का था. रोज दोपहर के खाने के बाद ४०-४५ मिनट तो यूं ही “चाय पर चर्चा ” पर निकलते थे. और फिर आज तो मसाला चाय का मजा था. “हमपर तो कोई बात नहीं आएगी न सर?” एक जूनियर्स ने पुछा. “हमको तो आखरी में हुकुम बजाना होगा भाई…. भाई देखो राजेश आज जो पेशी है उसमें क्या बोलेगा? यक़ीनन यही की निकाल फैकूंगा उसको जिसने यह सब किया है. ईमानदारी सर्वोपरि है ‘कंपनी’ के लिए. और अगर वोडाफोन इतने में मान गया तो फिर उसके बाद हमको सिर्फ आदेश का पालन करना है…… ननकालने की फॉर्मेलिटी तो हम ही करेंगे!” कालरा परेशान नहीं था. “सर अगर यह सब नए मैनेजर का किया धरा है; भगवान् न करे; और कहीं वोडाफोन ज्यादा ही बिदक गया; भगवान् न करे; तो हमसे भी तो पुछा  जायेगा की नए मैनेजर को रखने से पहले पूरी छान-बीन, बैकग्राउंड चेक करवाया गया था या नहीं. तब क्या करेंगे सर?” एक डरपोक जूनियर ने कालरा का मजा ख़राब कर दिया. कालरा ने चाय का कप वापस तश्तरी मे सरकाया और  कुछ गंभीर हो गया.

(३)

 कंपनी के ऑडिट डिपार्टमेंट ने खबर सनुते ही – राजेश मल्लया को वोडाफोनने तलब किया है; नए मैनेजर को तलब किया ; बुलाया क्या यूं  समझो की अपने कमरे मे गिरफ्तार करके बैठा लिया . बस इतनी ही कसर थी की रस्सी से नहीं बंधवाया वैसे कमरे के दरवाजे पर जूनियर ऑडिटर खड़ा कर दिया, जैसे नया मैनेजर कहीं भाग जाता! आरती के बाद सबसे सीनियर  नया मैनेजर ही था. और आरती पर बहुत सी और भी जिम्मेदारियां थीं, इसलिए नए मैनेजर को ही वोडाफोनयनूनट का सर्वेसर्वा माना जाता था. अब जो हुआ था उसका ठीकरा किसी  के सर तो फूटना था… सीनियर ऑडिटर ने धीरे से कहा, “पहले ही कहा था की ये एक दिन पूरी कंपनी को मरवाएगा” नया मैनेजर चुप रहा. उसके चेहरे के भाव किसी  को समझ नहीं आ रहे थे; न तो वो हतप्रभ ही नजर आ रहा था – जो सबकी उम्मीद से अलग था; और न ही उसके चेहरे पर अपराधबोध का भाव था! डरा होता तो भी कुछ लोग उसके डर को अपराधबोध से जोड़कर गुत्थी सलुझा लेते – सुगबुगाहट तो ये ही थी की वो ही है जिसने सब किया या करवाया है – वो बड़े ध्यान से सब सनु रहा था, बोल कुछ नहीं रहा था और न ही उसके चेहरे के भाव बदल रहे थे

(४)

आरती ने स्टाफ के साथ शायद १०-१५ मिनट बात की – ३० दिसंबर के बारे में कोई बात न करे; बिना सर-पैर की अफवाह न फैलाये – बस कुछ ऐसा ही कहा और फिर तेज क़दमों से बेसमेंट की और चली जहाँ ऑडिट डिपार्टमेंट के केबिन थे, ” गुप्ता सर, एक मिनट बात करनी है आपसे.” आरती के साथ गुप्ता जी अपने कमरे से निकलकर  बाजूवाले खाली कमरे मे दाखिल ही हुए की साथ वाले कमरे से नए मैनेजर की आवाज आयी, “आज जनवरी के भी २० दिन निकल गए हैं. तुम्हारी ऑडिट टीम कर क्या रही थी इतने दिन? ३० दिसंबर को क्या हुआ यह तमु को क्लाइंट बता रहा है; वो भी २० दिन बाद. तुम्हारा काम क्या है फिर? तुम्हे तो पहले ही पता चल जाना चाहिए था. नहीं?” गुप्ता जी सनुते ही परेशान हो गए. आरती ने क्या कहा, उसपर उनका ध्यान ही नहीं रहा.

(५)

 कौन परेशान नहीं था? आरती की यूनिट मे घटना घटी थी; कालरा को पता था की नए मैनेजर पर बात आयी तो उससे भी पुछा जायेगा की नए मैनेजर का बैकग्राउंड चेक हुआ भी था या नहीं और गुप्ता की ऑडडट टीम जिसका काम ही विसंगतियों को पकड़ना था आखिर उसकी टीम क्या कर रही थी; ठीक है की ऑडडट टीम ३० दिसंबर का वाकया रोक नहीं सकती थी लेकिन  यह क्या की उसको आज तक पता ही नहीं लगा – वोडाफोन ऑडडट टीम ने २० दिन बाद जो पकड़ लिया वो गुप्ता की टीम को बहुत पहले पकड़ लेना चाहिए था

 

…………………………………………………………. To be continued…………………………..

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s