किताब पर धूल


काम करने जो आती है

वो किताब झाड़कर, सलीके से नहीं रखती

फेंकती है;

अगर कभी समझ जाय की फैंकने से ही सारी परेशानी शुरू होती है

न दिमाग पर और न किरदार पर कभी धूल बैठे

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s