लघु कथा १४ :

0

लघु कथा १४ :
युगपुरुष (सालभर पहले एक रैली में) :पेट्रोल का दाम कम हुए की नही हुए?
आम जनता : हुए
युगपुरुष (रैली में) :डिजल का दाम कम हुए की नही हुए?
आम जनता : हुए
युगपुरुष (रैली में) :आप के जेब में थोड़ा बहुत पैसा आया की नही आया
आम जनता : आया
युगपुरुष (रैली में) :आप को नसीब वाला चाहिए की नही चाहिए
आम जनता : चाहिए
पहला, दूसरा और तीसरा युगपुरुष का भाषण सुन रहे थे
पहला : यह तो पुराना वाला है न
दूसरा : हम्म .. लगता तो पुराना ही है
तीसरा : अबे नहीं यह आने वाला है … क्योंकि अच्छे दिन अभी आने वाले हैं
और तीनों खूब हसने लगे

लघु कथा 13:

0

लघु कथा 13:
पहला : बापू का पूरा नाम क्या था ?
दूसरा : बापू का पूरा नाम आसाराम बापू था
तीसरा : अबे क्या बोलता है
पहला (तीसरे को नज़रअंदाज़ कर ) : बापू जेल क्यों गए ?
दूसरा : बापू बलात्कार के आरोप में जेल गए
तीसरा : अबे क्या बोलता है ?
पहला और दूसरा हंसने लगते हैं, तीसरा : बापू का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था, वह देश की स्वतन्त्रा के लिए जेल गए
और फिर वो तीनो कनाट प्लेस के बीचों बीच लगे झंडे को देखते हुए कहते हैं “तो मिल गयी आजादी ?”

लघु कथा १२

1

लघु कथा १२

पहला : (-) + (-) = क्या होता है ?
दूसरा : सरकार किसकी है प्रदेश में?
तीसरा : उससे क्या फरक पड़ता है भाई
पहला जोर जोर से हंसने लगता है; दूसरा उसका साथ देता है; फिर पहला कहता है
पहला : सरकार के बदलते ही इतिहास बदलने की बात नहीं सुनी ?
तीसरा : भाई लेकिन यह तो गणित का सिद्धांत है; इसमें सरकार क्या करेगी ?
दूसरा : खबर नहीं पढ़ी क्या ? नयी सरकार का मंत्री कहता है गणित में (-) + (-) = (+) और केमिस्ट्री में (-) + (-) = (-) होता है
पहला : शायद उल्टा बोला था भाई
उल्टा पुल्टा उल्टा पुल्टा कहते सभी हसने लगते हैं

लघु कथा 11

1

 

पहला : उम्र क्या है तुम्हारी बाबाजी ?
दूसरा : साहब ५० – ५२ होगी; लेकिन खेती कर लेता हूँ साहब – शरीर पर मत जाईये साहब, हड्डियां मजबूत हैं
पहला : (तीसरे से ) तेरी क्या होगी भाई ?
तीसरा : जोर जोर से हसने लगता है
फिर सभी पहला, तीसरा, चौथा, पांचवा हसने लगते हैं

लघु कथा १०

1

लघु कथा १०


पहला बोला “मेरे पास ४ गुल्लक थीं, मैंने चारों तुड़वा दी और बैंक में जमा करवा दीं – ठीक किया न ?”

दूसरा बोला “मेरी बीवी के पास से काफी धन निकला – उसने सारा बैंक मे जमा करवा दिया – ठीक किया न ?”

तीसरा लोकल सेठ था – नोटेबंदी के बाद कंगला हो गया था, बोला ” बहुत बढ़िया किया भाई, देखो वो और बात है की साल भर में ही दो हज़ार के उस जादुई नोट, जिसमें जी टीवी और आजतक आदि ने gps chip लगवाई थी, की खेपें बांग्लादेश से आ रही हैं – लेकिन तुमने बहुत अच्छा किया”

तीनो खूब जी भरके हँसे और उसके बाद कनाट प्लेस के गोल चक्कर के बीचो बीच लगे झंडे पर सलाम ठोकते हुए बोले – “मेरा देश बदल रहा हैं आगे बढ़ रहा है”

लघु कथा ९

0


लघु कथा ९

पहला बोला, “मैं उर्दू सीख रहा हूँ ”

दूसरे ने प्रश्न किया ” क्यों बे, आजकल तो सब हिंदी, संस्कृत सीख रहे हैं, तू क्यों उल्टा चल रहा है?”

तीसरा शायद समझ गया इसलिए बोला, “सही कर रहा है, दांयें से बांये मे फायदा है”

दूसरा बोला “है?”

पहले ने जवाब दिया, “देख यह एकबार देख”

पहले ने पुछा, “अबे यह तो हिंदी में है, इसमें उर्दू कहाँ हैं ?”

तीसरा बोला, “अखबार में पेट्रोल के दाम के बारे में क्या लिखा हैं ?”

दूसरा बोला, ” 57 से 75 हुए ”

पहले बोला “अब उर्दू में पढ़ – दांयें से बांये”

दूसरा बोला, “75 से 57 हुए ”

तीसरा बोला, “देखा कमाल, विकास दिखने लगा न, इसीलिए पहला आजकल सब उर्दू में पढता है – दांयें से बांये”

पहला बोला, “पता हैं GDP उर्दू में क्या है?”

दूसरा बोलता है ” हिंदी में 8.5 से 5.8 और उर्दू में 5.8 से 8.5 ”

तीनो जोर जोर से हसने लगते है

सपना ४८

1

सपना ४८


रात का दूसरा कोना आ गया है और अभी तक सपने का नामोनिशान नहीं; मैंने खुद को पुछा, “आज सपना क्यों नहीं देख रहा”… इससे पहले की वो जवाब देता एक नयी मर्सेडीज़ बेंज जी ६३ गाडी सपने मे आकर खड़ी हो गयी; चालक की लम्बी दाढ़ी थी, कार का रंग एकदम हरा – धुआं भी हरा छोड़ रही है .. तभी ड्राइवर सीट से आवाज़ आती हैं, “अरे भाई श्री श्री चल बैठ यार, निकलना है – भारत की नदियों को बचाना है”
“लेकिन इतनी देर कहाँ लग गयी तुझे?” श्री श्री पूछते हैं
“यार गाड़ी रंगवा रहा था – हरे रंग की गाडी बढ़िया रहेगी – सही मैसेज जायेगा !! – और धुआं भी रंगीन हैं इसका – खालिस हरा ”
“बढ़िया किया जग्गी – अब लगती है न यह जग्गी “the satguru ” दी गड्डी” श्री श्री बोले और गाड़ी में बैठ गए .
४ * ४ गाड़ी यमुन्ना के घाट पर कहाँ फसने वाली थी … फररर से निकल पड़ी