लघु कथा २१


लघु कथा २१
पहला : हाँ भाई टैक्स भर दिया ?
दूसरा : सैलरी टैक्स काटकर ही मिलती है
तीसरा : हाहा हाहा हाहा हाहा हाहा
पहला : और तूने भरा ?
तीसरा : हाँ भर दिया, हाँ भर दिया यार कौन सरकार से पन्गा ले
पहला : तुझे पता है बैंक ने अमीरों को जो लोन दिया था उसमे से काफी डूब गया
दूसरा : अच्छा? फिर अब ? माफ़ होगा ?
तीसरा : माफ़ होगा !! अबे उससे भी बढ़कर, सरकार जो टैक्स ले रही है हमसे उससे बैंकों के घाटे की भरपाई करने का फैसला ले लिया है
दूसरा : फिर बैंक क्या करेंगें इन पैसों का ?
पहला : अमीरों को लोन देंगे
और फिर तीनो एक दुसरे से पूछते हैं – टैक्स तो भर दिया न ??

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s