लघु कथा २७


लघु कथा २७


पहला : आज तुम दोनों मेरे घर आना
दूसरा : क्यों ?
पहला : यार मेरे बच्चों को लगता है मैं उनके लिए कुछ कर नहीं रहा
तीसरा : तो हम इसमें क्या करेंगे
पहला : घर आओ; बातचीत करो; बच्चों को भी पता चले की मैं कितना बढ़िया बाप हूँ
दूसरा : अबे तू तो राजनीती कर रहा है
पहला : यार मैं तो देश के प्रधान से सीख रहा हूँ
तीसरा : कैसे
पहला : वो भी तो यही कह रहे हैं; आस पास, पड़ोस की क्या हालत है वो मत देखो; मूडी की रिपोर्ट देखो; साफ़ पता चल जायेगा की हम प्रगति की रह पर हैं
और फिर तीनों हसने लगते हैं

One thought on “लघु कथा २७

कुछ कहना चाहोगे ?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s