लघु कथा १२

1

लघु कथा १२

पहला : (-) + (-) = क्या होता है ?
दूसरा : सरकार किसकी है प्रदेश में?
तीसरा : उससे क्या फरक पड़ता है भाई
पहला जोर जोर से हंसने लगता है; दूसरा उसका साथ देता है; फिर पहला कहता है
पहला : सरकार के बदलते ही इतिहास बदलने की बात नहीं सुनी ?
तीसरा : भाई लेकिन यह तो गणित का सिद्धांत है; इसमें सरकार क्या करेगी ?
दूसरा : खबर नहीं पढ़ी क्या ? नयी सरकार का मंत्री कहता है गणित में (-) + (-) = (+) और केमिस्ट्री में (-) + (-) = (-) होता है
पहला : शायद उल्टा बोला था भाई
उल्टा पुल्टा उल्टा पुल्टा कहते सभी हसने लगते हैं

लघु कथा 11

1

 

पहला : उम्र क्या है तुम्हारी बाबाजी ?
दूसरा : साहब ५० – ५२ होगी; लेकिन खेती कर लेता हूँ साहब – शरीर पर मत जाईये साहब, हड्डियां मजबूत हैं
पहला : (तीसरे से ) तेरी क्या होगी भाई ?
तीसरा : जोर जोर से हसने लगता है
फिर सभी पहला, तीसरा, चौथा, पांचवा हसने लगते हैं

लघु कथा १०

1

लघु कथा १०


पहला बोला “मेरे पास ४ गुल्लक थीं, मैंने चारों तुड़वा दी और बैंक में जमा करवा दीं – ठीक किया न ?”

दूसरा बोला “मेरी बीवी के पास से काफी धन निकला – उसने सारा बैंक मे जमा करवा दिया – ठीक किया न ?”

तीसरा लोकल सेठ था – नोटेबंदी के बाद कंगला हो गया था, बोला ” बहुत बढ़िया किया भाई, देखो वो और बात है की साल भर में ही दो हज़ार के उस जादुई नोट, जिसमें जी टीवी और आजतक आदि ने gps chip लगवाई थी, की खेपें बांग्लादेश से आ रही हैं – लेकिन तुमने बहुत अच्छा किया”

तीनो खूब जी भरके हँसे और उसके बाद कनाट प्लेस के गोल चक्कर के बीचो बीच लगे झंडे पर सलाम ठोकते हुए बोले – “मेरा देश बदल रहा हैं आगे बढ़ रहा है”

लघु कथा ९

0


लघु कथा ९

पहला बोला, “मैं उर्दू सीख रहा हूँ ”

दूसरे ने प्रश्न किया ” क्यों बे, आजकल तो सब हिंदी, संस्कृत सीख रहे हैं, तू क्यों उल्टा चल रहा है?”

तीसरा शायद समझ गया इसलिए बोला, “सही कर रहा है, दांयें से बांये मे फायदा है”

दूसरा बोला “है?”

पहले ने जवाब दिया, “देख यह एकबार देख”

पहले ने पुछा, “अबे यह तो हिंदी में है, इसमें उर्दू कहाँ हैं ?”

तीसरा बोला, “अखबार में पेट्रोल के दाम के बारे में क्या लिखा हैं ?”

दूसरा बोला, ” 57 से 75 हुए ”

पहले बोला “अब उर्दू में पढ़ – दांयें से बांये”

दूसरा बोला, “75 से 57 हुए ”

तीसरा बोला, “देखा कमाल, विकास दिखने लगा न, इसीलिए पहला आजकल सब उर्दू में पढता है – दांयें से बांये”

पहला बोला, “पता हैं GDP उर्दू में क्या है?”

दूसरा बोलता है ” हिंदी में 8.5 से 5.8 और उर्दू में 5.8 से 8.5 ”

तीनो जोर जोर से हसने लगते है

लघु कथा ८

0

लघु कथा ८:


“और हेलीकॉप्टर क्यों खरीद रहे हैं सरकार?” पहले ने अखबार पढ़ते हुए पुछा
“देश में बाढ़ प्रभावित और संभावित क्षेत्र बढ़ते जा रहे हैं न” दुसरे ने उत्तर दिया
तीसरा जोर जोर से हंसने लगा … शायद उसको उत्तर में छिपा व्यंग्य समझ आ गया…
“हँसता क्यों हैं भाई?” पहले ने पुछा
दूसरा बोला, “अबे जब बाढ़ आएगी तो वेस्टलैंड के हेलीकॉप्टर में बैठकर सरकार टूर पर भी तो जाएगी”
तीसरा बोला “और जितनी बाढ़ उतने टूर … उतने हेलीकॉप्टर”
पहले ने कहा “नहीं यार, श्री श्री और जग्गी वासुदेव लगे हैं नदी और वन बचने में”
तीसरा फिर से जोर जोर से हंसने लगा, “भाई मेधा पाटकर से ज्यादा तो नहीं लगे होंगे”
दूसरा और जोर से हँसते हुए बोला, “भारत की माध्यम वर्ग जनता से अगर कुछ भी करवाना है तो एक साधू रहसयवादी तांत्रिक की सेवाओं की जरूरत पड़ती है भाई – मेधा पाटकर की नहीं ”
फिर तीनो हसने लगे

लघु कथा ७

0

लघु कथा ७

“२५ अगस्त २०१६ में एक जैन दिगंबर मुनि आया था हरयाणा विधान सभा में भाषण देने ” पहले ने कहा

“और २५ अगस्त २०१७ को बाबा राम रहीम…. ” दूसरा बोला

फिर दोनों कहकहा लगाने लगे …

“अच्छा सुन पिताजी बाबा राम रहीम अब भक्तों के सपने में आ रहे हैं आजकल … सबसे कह रहे हैं भाजपा ने धोका दे दिया – वादा था अच्छे दिन का और भेज जेल दिया ” पहला बोला

दोनों फिर हॅसने लगे. तभी तीसरा बोला

“यह बात सुनी सुनी सी लगती है – और “धोखा धोखा……धोखा धोखा” गाने लगा “मौका मौका मौका मौका” की तर्ज पर

लघु कथा ६ :

0

लघु कथा ६ :
“तुम्हे पता है एक शब्द होता है काकिस्तोक्रसी?” पहले ने कहा

“डेमोक्रेसी जैसा लगा है यह तो … क्यों इसमें क्या अलग होता है भाई ?” दूसरा बोला

“डेमोक्रेसी जैसा ही है भाई, लेकिन थोड़ा अलग – असल में जिस देश की सरकार सबसे बुरे, लगभग अनपढ़ और बेहद बेशर्म नेता चलाते हों उस देश की सरकार और सरकारी प्रणाली को काकिस्तोक्रसी कहते हैं.” पहले ने कहा

और दोनों हॅसने लगे; तीसरा मगर चुप रहा; “तो भाई एक बात बताओ इस सरकार के कामों का नतीजा क्या निकलता होगा?”

जैसे ही तीसरे ने पुछा, पहला और दूसरा चुप हो गए… तीसरा हॅसने लगा – विभस्त हंसी और बोलने लगा, “डेमोक्रेसी और काकिस्तोक्रसी की तरह और भी शब्द हैं जैसे खाकिस्तोक्रसी, इडिओक्रैसी, कोर्पोरटॉरसी, क्लेप्टोक्रेसी”

अब तीनो दोस्त झंडे की तरफ देखकर सलाम ठोकते हुए बोले – जय हिन्द – और हॅसने लगे